ಪಬ್ಲಿಕ್ ಟಿವಿ ಲೈವ್ ಇನ್ ಕನ್ನಡ

सेक्स मराठी सेक्स मराठी सेक्स मराठी

सेक्स मराठी सेक्स मराठी सेक्स मराठी, और इतना कहकर वो मेरे पास ही खड़ी रही,,,,,, मैंने भी कुछ सेकंड रुककर अपनी ज़िप खोल कर लन्ड को बाहर निकाल लिया और मूतने लगा,,,,, शालिनी मेरे बराबर में खड़ी थी और बड़े गौर से मेरे अधखड़े लन्ड को देख रही थी,,,, मैंने मजा लेते हुए अपने लौड़े को हल्के से हिलाया तो मेरे मूत की धार और दूर गिरने लगी,,, लड़की- अरे शर्माइये नहीं सर… यहाँ हर तरह के अंडरगार्मेंट्स मिलते हैं… आपको अपनी बीवी के लिए चाहिए या गर्लफ्रेंड के लिए…

सलोनी- सच भाभी… मैं तो पहले से ही इतनी गर्म हो गई थी पर वो भी पूरा घाघ थे, लगा रहे थे, घिस रहे थे मगर डाल नहीं रहे थे. सागर- अच्छा कोई बात नहीं तुम ऐसा करो अभी मेरा बरमूडा और टीशर्ट पहन लो, शाम को हम लोग नये कपड़े लेंगे ही ।।

विशाल- हां अदिति आज के बाद तुम्हारा गम मेरा गम है और तुम हर खुशी अब मेरी खुशी है.......आइ लव यू टू....... सेक्स मराठी सेक्स मराठी सेक्स मराठी राजन ने पलटकर देखा-उसके सम्मुख एक सौंदर्य की प्रतिमा खड़ी थी। उस सुंदरी के हाथों में फूल थे-जो शायद मंदिर के देवता के चरणों को सुशोभित करने वाले थे। ऐसा ज्ञात होता था-मानो चंद्रमा अपना यौवन लिए हुए धरती पर उतर आया हो।

चीन वालों की सेक्सी वीडियो

  1. मैं- और हां, तुम आज इसी बेड पर सो जाना क्योंकि तुम्हारे रूम में तो अभी कूलर नहीं लग पाया है,, कल लगवा लेंगे।।
  2. शालिनी- आज कालेज प्रिंसिपल मैम ने भी कामन असेम्बली में सब लड़कियों को बहुत समझाया कि इस तरह के कामों से लड़कियों को दूर ही रहना चाहिए नहीं तो थोड़े मजे के लिए सारा जीवन नर्क बन सकता है,,, औरत का खुला सेक्स
  3. मैंने नलिनी भाभी के मांसल चूतड़ों को मसलते हुए उनको अपने से चिपका लिया, मेरे से पहले मेरे लण्ड ने उनकी चूत को ढूंढ लिया और भाभी की गद्देदार चूत से जोंक की तरह चिपक गया. रिया ने खुद ही अपने हाथों से उसको मेरे लण्ड पर चढ़ाया और उसको 3-4 बार चूसकर लण्ड को फिर से टाइट किया.मैंने इस बार और भी अच्छे ढंग से खड़े होकर लण्ड को फिर से उसकी चूत में सरका दिया और अपना काम शुरू कर दिया.
  4. सेक्स मराठी सेक्स मराठी सेक्स मराठी...मधु कसमसाते हुए- नहीं भैया… वो तो… क्या कर रहे हो?उसन मेरे आगे से निकलने की कोशिश की तो मैंने उसको कसकर पकड़ झटका दिया…वो गड़बड़ाकर… मेरी गोद में बैठ सी गई और… उसके चूतड़ ठीक मेरे लण्ड पर थे…उसके कसमसाने से उसके चूतड़ मेरे खड़े हो चुके लण्ड को बहुत मजा दे रहे थे… हवलदार- वाह भाई, अब तो यह अपनी मर्जी से चुदवायेगी.. चलो भाई, गाड़ी के अंदर आज इसकी जमकर ठुकाई करते हैं, बहुत टाइट माल हाथ लगा है आज तो…
  5. मैं - (मेरी साँसे तेज़ थी) बहुत अच्छी लग रही हो बहना,,,,, लाल कलर के ब्रा पैन्टी में बहुत गोरी लग रही हो.... और और.... सेक्सी भी... मैंने एक झटके में बोल दिया । उसने भीगे वस्त्र निचोड़े और वादी की ओर चल दिया। रास्ता अभी तक बर्फ से ढँका हुआ था। जब वह मंदिर के पास पहुँचा तो वहाँ कोई भी न था। मंदिर के किवाड़ बंद थे। प्रकाश केवल झरोखों से बाहर आ रहा था। राजन ने एक बार हरीश के घर को देखा, जो प्रकाश से जगमगा रहा था, फिर अपने घर की ओर चल दिया।

बाबासाहेब आंबेडकरांचे फोटो

एकदम खुली शब्दों का प्रयोग !मतलब पूरी तरह रण्डी बन गई थी वो… कहते हैं एक रण्डी हर स्त्री में छुपी होती है, बस उसको बाहर निकालना पड़ता है.

लेकिन मैंने कहा- देख अमृता , तुने मुझे कहा था कि मै तुझे छुऊँ नहीं | इसलिए मैंने तुझे छुआ नहीं है |मगर मै तुझे नहाते हुए देख कर और कण्ट्रोल नहीं कर सकता हूँ | शायद तू खुद नहीं जानती कि तू इस समय क्या चीज लग रही है? पीछे मुझे महसूस हो रहा था कि शालिनी ने अपनी बुर में उंगली डाल दी है और अब वो भी मदहोशी की ओर बढ़ रही होगी,,,, कुछ देर तक खामोश हो कर मैं भी आस पास के मनोरम वातावरण को देखकर उत्तेजित अवस्था में शांति से खड़ा रहा जिससे मेरी बहन के हस्तमैथुन करने में कोई व्यवधान उत्पन्न ना हो,,,,,

सेक्स मराठी सेक्स मराठी सेक्स मराठी,नीलम- कुछ नहीं यार,, तू तो देख ही रही है मैंने आज ब्रा भी नहीं पहनी और तुझसे मिलने आ गई,, मुझे क्या पता था कि,,,

प्रतिदिन की तरह राजन आज भी अपने कार्य में संलग्न था। छुट्टी होने में अभी दो घंटे शेष थे। आज चार रोज से उसका मन किसी काम में नहीं लग रहा था। इसका कारण वह मकान था, जो मैनेजर ने राजन को कृपा रूप में दिलाया था और राजन को लाचार हो, पार्वती का साथ छोड़ना पड़ा था।

शालिनी- ओह ,,,,। सो सैड स्टोरी ,,,, आपके बड़े बड़े शहरों में ऐसी बड़ी बड़ी बातें होती रहती हैं,,,, है ना,,,, और वो खिलखिला कर हंस पड़ी ,,, ।दादा पोती की सेक्सी

सरोजिनी माम- (हंसते हुए) हां,,, तो कर लेती ,,,,, शर्म में कपड़ों में करने से तो अच्छा है,,, फिर क्या किया,, अब बाहर की लाइट में पहली बार हमने उन भाई बहन को देखा.... लगभग हमारी ही एज ग्रुप के थे,, और एक दूसरे के हाथ में हाथ डाल कर प्रेमी-प्रेमिका की तरह कार पार्किंग की ओर जा रहे थे....

यह कहता हुआ पुजारी बाहर चला गया-पार्वती ने पूजा की थाली उठा ली और उसमें पूजा के लिए फल रख बाहर जाने लगी। अभी उसने पहला कदम उठाया ही था कि पिछले किवाड़ से कोई अंदर आया।

और हम दोनों को अपने दोनों तरफ की बड़ी बड़ी चूचियों के साथ चिपका लिया और गुडनाईट बोलकर हम दोनों के बालों को सहलाने लगी,,, पता नहीं कब हम दोनों सो गए और ......,सेक्स मराठी सेक्स मराठी सेक्स मराठी शालिनी- वो मेरे ही क्लास में है,, प्रतिमा नाम है उसका,, उसका ब्वायफ्रेन्ड भी है,,, तुम्हारी दाल नहीं गलने वाली....... और वो मुस्कुरा रही थी

News