बच्चों के अच्छे अच्छे कहानियां

मुंबई लोहमार्ग पोलीस आयुक्त कोण आहेत

मुंबई लोहमार्ग पोलीस आयुक्त कोण आहेत, डॅड…… यू ओके? बहुत प्यारी स्माइल के साथ वो अपने डॅड को जागती हुई नींद से जागती है. पंकज हड़बड़ा जाता है. पंकज फिर से आराधना को आवाज़ देता है - आरू...... क्या हुआ......... जब अब की बार आवाज़ नही आती तो पंकज समझ चुका था कि कुच्छ इश्यू है.

बिल्कुल सही समझी. मैं ये नही कहता के तू लड़की नही. लड़की है पर लड़कियों जैसी बन भी तो सही मैने मुस्कुराते हुए कहा मैंने कहा,भैया … ओह सोरी … जान, अब मेरा क्या होगा, मैं क्या करूँ और अब आगे का क्या प्लान है, मेरा मतलब भविष्य का, क्योंकि अब मुझे घबराहट हो रही है, मैं आपके बिना नहीं रह सकती।

अच्छा इतना तो बता दो कि क्या आप भी चाहती थी कि आपके भाई के साथ आपका सेक्स हो जाए या फिर बस आपके भैया ही चाहते थे……. प्रीति फिर से एक क्वेस्चन करती है. मुंबई लोहमार्ग पोलीस आयुक्त कोण आहेत स्मृति - नाइट मे मुझे ब्रा पहन ना पसंद नही है......... कुशल को ऐसे रिप्लाइ की उम्मीद नही थी. आज स्मृति ने जिस तरीके से रिप्लाइ किया उससे तो कुशल भी उसकी हिम्मत मान गया

एक्स एक्स वीडियो गांव का

  1. म्र्स डी'सूज़ा के घर से निकलकर मैं सोच ही रहा था के घर जाऊं या ऑफीस के मेरा फोन बजने लगा. कॉल रश्मि की थी. वो आज की ही फ्लाइट से वापिस आ रही थी.
  2. झूठ से प्यार माँगा तो चूत मिली. लेकिन सच से सिर्फ़ गालियाँ मिल रही है. क्यूँ आपको मेरा लंड पसंद नही आया.... कुशल बोलता है ब्लू सेक्सी फिल्म दिखाएं
  3. चल तू बोलती है तो मान लेती हू….. नही तो तेरी चूत के खुले हुए होंठ तो ऐसे ही बता रहे है कि किसी तगड़े लंड से ठुकी है तू……… लेकिन छोड़ मेरी रानी और मुझे प्यार कर…………. सिमरन सोफे पे लेट जाती है और अपनी टांगे फेला कर प्रीति को इन्वाइट करते हुए बोलती है. आराधना की कपड़े उतारने की पहल से पंकज भी काफ़ी एग्ज़ाइटेड हो चुका था. किस्सिंग के दौरान ही आराधना अपना हाथ नीचे ले जाती है और उसके लंड को पॅंट के उपर से पकड़ कर दबाने लगती है. वो पत्थर बन चुका था.
  4. मुंबई लोहमार्ग पोलीस आयुक्त कोण आहेत...रुक्मणी तो सुबह सुबह ही मंदिर चली गयी थी और रही दरवाज़े की बात, घर में तुम्हारे सिवा कोई और है ही नही तो दरवाज़ा क्या बंद करना. और तुम? तुमसे भला कैसी शरम वो मेरे पिछे से बोली ओूऊऊऊऊऊ……..लाइयन…….फाड़ दे मेरी चूत………………मार इसको……………..ग्रेट………..स्मृति के चिल्लाने से ही पता लग रहा था कि वो आज कितनी मस्त हो चुकी थी.
  5. पहले प्रीती ने, फिर आरू ने, फिर सिमरन ने एक के बाद एक शर्म को छोड़ कर सब ने अपने पैर फैलाये. पैर फैलाते ही सबकी चूत में से वो दबा हुआ रस निकल कर बाहर छलक गया और दोनों अंदर चले जाते हैं, एक बार तो स्मृति सकते में आ जाती है, बिल्कुल अंधेरा और लाइट का कोई नामोनिशान नहीं, अंदर घुसते ही स्मृति अपने बाएं तरफ चलने लगती है, बेहद डरावनी आवाज आ रही थी उस स्केरी हाउस में, स्मृति का तो गला सूख चुका था

पाकिस्तानी सेक्सी पिक्चर वीडियो

एकता - भाई स्कूल मे है तो और बेचारी क्या करे. उपर से नीचे तक ढक कर आती है, एक बार तुम बाहर गये ना तो देखना की स्कूल मे क्या माहौल करती है वो..

इससे पहले की प्रीति कुच्छ समझ पाती, दोनो के होंठ अलग होते है और सिमरन उसकी टी-शर्ट उतार देती है. अब प्रीति के मस्त बूब्स बस उसकी ब्रा मे क़ैद थे, पॅडेड ब्रा मे उसके दोनो बूब्स और उपर हो रहे थे. अनएक्सपेक्टेड सिचुयेशन होने से प्रीति के बूब्स भी उपर नीचे हो रहे थे क्यूंकी उसकी साँसे तेज चल रही थी. जब मैंने देखा कि अब वो पुरसुकून हो गया है.. तो मैंने अपने हाथ के साथ-साथ अपने लण्ड को भी हरकत देनी शुरू की और आहिस्ता-आहिस्ता उसकी गाण्ड में अन्दर-बाहर करने लगा।

मुंबई लोहमार्ग पोलीस आयुक्त कोण आहेत,यही तो पुच्छ रहा हू कि क्या हुआ है…. आप मुझे बता सकती है और मुझ पर भरोसा कर सकती है… कुशल भी सीरीयस होने का ड्रामा करता है.

क्या कहा अभी तूने??? स्मृति ठीक से उसकी बात सुन नही पाती तो पूछती है. नही… नही कुच्छ नही. मैं तो बस यही कह रहा था कि हाँ मैं भी आपको दोस्त मान कर ही आपकी बात सुनूँगा…… कुशल बड़े ही प्यार से स्मृति से बोलता है.

. ओह्ह्ह्ह माय गॉड..... कुशल को आज झटके ही झटके लग रहे थे. प्रीती उसी के रूम में दिवार के सहारे बैठी थी.कुत्ता लड़की का सेक्सी वीडियो

प्रीती –पर वो आपके पीछे छुपकर क्यूँ खड़ा है, क्यूँ बे कुशल बाहर निकल वहां से, मुझे तुझसे कुछ काम है अपने रूम में प्रीती – देख कुशल देख, इस खूबसूरत बदन को चोदने के लिए तो लोग खून करने को भी तैयार हो जाए, और तू है कि ....

सिमरन ने अब अपनी जीभ उसकी बुर में डाली और उसकी क्लिट को भी छेड़ने लगी, अब प्रीती अपनी गाँड़ उछालकर और उसका सिर अपनी बुर में दबाकर मस्ती से चिल्लाने लगी: आऽऽऽह्ह्ह्ह्ह मैं मरीइइइइइइइइइइ, उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ ,

कोमल- वो तो है और उनका बदन भी खूब कसरती है, मेरी मम्मी इतनी मोटी है उसके बाद भी मेरे पापा को मेने कई बार उनको अपने गोद में उठाते देखा है,मुंबई लोहमार्ग पोलीस आयुक्त कोण आहेत पर वक्त बीतता गया और रात के लगभग 11 बजने वाले थे, पर ना तो उसके दरवाज़े पर कोई दस्तक हुई ना ही कुशल का कोई मेसेज उसके फ़ोन पर आया... अब उससे और इन्तेजार नही हो पा रहा था,

News