बीएफ फुल एचडी वीडियो बीएफ

जीव झाला येडा पिसा मालिका

जीव झाला येडा पिसा मालिका, पूजा भी तो यही चाह रही थी.....शास ने उसके मन की बात कहकर.....उसकी उत्तेजना अओर बढ़ा दी थी.......पर शास की बात सुनकर उसके गालो पर लालिमा दौड़ गई थी......उसके कान लाल हो गये.....चूत फिर पानी छोड़ने लगी थी....... तेरी गर्लफ्रेंड है क्या? सच बोल, तेरी शादी करवा सकती हूँ मैं. कैसी दिखती है वो? शशि से सुंदर है या नही? अच्छा भाई बुला लो उसको. मैंभी तो देखूं मेरे भाई की पसंद. तीनो पार्टी करते हैं यार!! संजू पहले झिजका लेकिन फिर मान गया और शराब लेने चला गया.

अब वो अपने पूरे होश में आ चुकी थी और पुन: अपना पुराना राग आलापने लगी, कामना बोली, जीजू अब और नहीं प्लीज ! अब जाने दीजिये। भाभी...मैं शास से कह रही थी कि कंचन की चूत को बड़े ही प्यार से धीरे धीरे ही चोदना...कही उस नज़ूक चूत को फाड़ ही डाले...

भाभी...हा कंचन ये वादा रहा.....शास अब तो एसे पूजा की चूत से बाहर निकाल लो...वह तो बेदम हो गयी है.....??? जीव झाला येडा पिसा मालिका विशाल आप'ने लंड पर तेल या क्रीम तो लगा लो. मैं तुम्हारा सारा कहा तो मान रही हून पर तुम ऐसे कैसे पेश आ रहे हो. मैने कहा की ,

ಮರಾಠಿ ಸೆಕ್ಸ್ ವೀಡಿಯೊ

  1. इतना सुनकर कामना ने शर्म से सर नीचे झुका लिया और मुझे बाथरूम की तरफ धक्का देकर बोली- अब जाओ और नहा लो।
  2. मैंने उसका हाथ पकड़कर उसे दिलासा दिया. डर मत अम्मा, मैं जो हूं तेरा बेटा, तुझ पर आंच न आने दूंगा. मेरा विश्वास करो. किसी को पता नहीं चलेगा मां धीमी आवाज में बोली ठीक है सुन्दर बेटे. और उसने सिर उठाकर मेरा गाल प्यार से चूम लिया. देहाती औरतों की चुदाई
  3. पूजा...शास अब इस लंड को जीयादा पानी ना पीलाओ....मेरी चूत तो बर्दास्त नही कर पाएगी.....पहले से ही बहुत बड़ा है....पानी पीकर तो अओर बड़ा हो जाएगा.....पूजा ने मुस्कुरकर कहा..... इतना तो मैंने कभी संजय के साथ भी महसूस नहीं किया था। पर मैं पता नहीं आज किस मूड में थी। पर अरूण को कुछ कहूँ भी तो कैसे कहीं वो मुझे गलत ना समझ लें। रो‍टी बनाकर मैं डायनिंग पर दोनों के लिये खाना लगाने लगी, अरूण भी मेरी मदद कर रहे थे जबकि संजय ने तो आज तक मेरे साथ घर के काम में हाथ भी नहीं लगाया।
  4. जीव झाला येडा पिसा मालिका...सादिया ने सोचा चलो जो होना था हो गया लकिन अब ऐसा कभी नही करूँ गी फिर सोचती कभी कभी इतना करने से कुछ नही होता खैर कुछ देर बार सादिया उठी और वॉशरूम चली गयी फ्रेश हो के रूम मैं आ के अली को उठाया और ब्रेकफास्ट बनाने चली गयी. तो लालो ने कहा यार पापा के बिज़्नेस पार्टनर हैं लेकिन मे कल से देख रहा हू वो मेरी मा को ही घूरता रहता है ओर उस की नजरे हर वक़त मा के स्तनो पर होती हैं
  5. मेरे पास अब सोचने का समय नहीं था। किसी भी क्षण मेरा शेर वीरगति को प्राप्त हो सकता था, मैंने आगे बढ़कर अपना लिंग उसके स्तंनों के बीच की घाटी में लगा दिया। उधर से कामना की मीठी चाशनी जैसी आवाज आई, हैल्लो जीजाजी, मेरी गाड़ी बस 15-20 मिनट में स्टेशन पहुँचने वाली है, बताओ कहाँ मिलोगे?

चोदा चोदी चोदा चोदी चोदा चोदी चोदा चोदी चोदा चोदी

देवर जी, मेरे से गलती हो गयी. लगता है मुझे कुछ और पहनना था. क्या मैं तुम्हारी कोई मदद कर्रूँ इस मामले में, मनोरमा ने उसे छेड़ा.

थोड़ा हल्के से नहीं कर सकते क्या…? उसने पूछा। मैं फिर से आगे बढ़ा और उसका बायां चुचूक अपने मुँह में ले लिया। कामना लगातार मेरे सिर को चूमने लगी। मैं उसके दोनों चुचूकों का रस एक-एक करके पी रहा था… उसके हाथ मेरी पीठ पर चहलकदमी कर रहे थे और मेरे हाथ कामना की पिंडलियों एवं योनि-प्रदेश को सहलाने लगे। काजल ने कुछ नही कहा, उसके लिए तो उसका भाई बस उसके पास था यही सबसे बड़ा गिफ्ट था उसके लिए, पर उसकी आँखे एक और शक्स को ढूंड रही थी. काजल को किसी और का भी इंतेज़ार था.

जीव झाला येडा पिसा मालिका,यह ख्याल आते ही मैंने चड्डी को टब में डाल दिया और प्रिया से बोला- अगर तुम नंगी नहीं होगी तो मैं अपने सब कपड़े पानी में डाल दूंगा और इसी तरह नंगा रहूँगा, फिर तुम जानो और तुम्हारा काम!

मेरे घर में मेरी मा और छ्होटा भाई संजय हैं. संजय 20 साल का है और मा का नाम रजनी है जो कोई 46 साल की है. पिता जी का देहांत हो चुका है. शशि के घर में उसका भाई जिम्मी,

उसने सोचा मैडम सो गई है, वो धीरे धीरे आया और मेरी पैंटी उठा कमरे में लेकर गया। हैरानी तब हुई जब उसके साथ मैंने नौकर दीपक को निकलते देखा। उन्होंने पैंटी वापस वहीं टांग दी।काजल हीरोइन का सेक्स

बसंती के पिछे भी पड़े हुए है छ्होटे मलिक, वो भी साली खूब दिखा दिखा के नहाती है,,,,,, साली को जैसे ही छ्होटे मालिक को देखती और ज़यादा चूतर मटका मटका के चलने लगती है, छ्होटे मलिक भी पूरा लट्तू हुए बैठे है अली: अम्मी मेरी फ्रेंड है ना मिसबा वो भी बता रही थी के उस के अम्मी ऐंड डैड भी डोर लॉक करते हैं वो भी सिर्फ़ रात मैं लकिन दिन मैं कभी नही.

रन्डी अपनी मा की चूत को सहला, उसे अंगुल कर, उस'ने अपनी मा को अंगुल चुदाई करनी चालू कर दी. एक या दो मिनिट के बाद ही उसे मज़ा आ'ने लगा अब चाची अपनी गान्ड को पीच्चे को मार रही थी. जिस'से मेरा लंड पूरा उस'की गान्ड मैं घुस रहा था. वह उत्तेजना मैं सिसक रही थी..

चुदाई का दौर शुरू हो चुका था। मैं उसकी गांड और बुर को बारी-बारी से चोद रहा था और वो भी आह-ओह करके मेरा उत्साह बढ़ा रही थी।,जीव झाला येडा पिसा मालिका पानी में डूबकर उठने के बाद मैं पागल हो गया। सभी लड़कियों के दुपट्टे उनके बदन से चिपक गये थे, ऐसा लग रहा था वो नंगी थीं। मैं सबसे लिपटता और उनकी चूंचियां जी भरके दबाता वो भी मेरा लण्ड पकड़ती।

News