वीडियो खुल्लम खुल्ला

मुंबई का वेश्या बाजार

मुंबई का वेश्या बाजार, ज़्यादा मत सोचो बेटी और एक बार इसका स्वाद चख ही लो अनिल ने कंचन बालों से पकड़कर अपने लंड पर झुकाते हुए कहा । कंचन का मुँह अब उसके दादा के लंड के बिलकुल क़रीब था । वह अपने दादा के लंड का गुलाबी सुपाडा इतना नज़दीक से देखकर उत्तेजित होते हुए उसे अपने होंठो से चूम लिया। नही मैं तुम्हारे जिस्म से सिर्फ खेलना नहीं तुम्हें चोदना भी चाहता हूँ महेष ने ज्योति को देखते हुए कहा।

कंचन ने लंड को गांड ढीली कर के रास्ता दे दिया और उसके पिता के लंड का सुपारा एक झटके में छेद के अन्दर था। नरेश भी अब रेखा के कमरे की तरफ बढने लगा वह भी जानना चाहता था की आखिर क्या चक्कर है । मुकेश अपनी बीवी के साथ कंचन को देखकर चौंक गया । वह पहले से बुहत गरम था अचानक अपनी बेटी को देखकर उसका लंड ज़ोर के झटके खाने लगा।

क्यों दीदी आपको हम से भी शर्म आ रही है । हमें भी पेशाब लगी है । हम आपके साथ साथ पेशाब करेंगे । यह कहते हुए विजय अपनी बहन के दूसरी तरफ जाकर खडा हो गया। मुंबई का वेश्या बाजार कंचन ने झरते वक्त अपने दोनों हाथों से अपने भाई के बालों को पकडकर अपनी चूत पर दबा दिया । कंचन की चूत से जाने कितनी देर तक पानी निकलता रहा। विजय जितना हो सकता था । अपनी कुंवारी सगी बहन का पानी चाट लिया और बाकी का उसके मुँह पर लग गया।

सनी लियोन एक्स एक्स वीडियो सेक्सी

  1. मैं चाय बनाने जा रही हूँ और तुम्हारे पास तुम्हारी बेटी कंचन ही चाय लेकर आएगी रेखा ने मुस्कराते हुए कहा और अपने पति से दूर होते हुए वहां से बाहर चलि गयी ।
  2. आह्ह्ह्ह दादा जी प्लीज छोड़िये ना कंचन ने अपने हाथ को अपने दादा के लंड पर महसूस करते ही सिसकते हुए कहा । कंचन का पूरा शरीर अपने हाथ को अपने दादा के लंड पर महसूस करके कांप रहा था। పేపర్ బాయ్ సాంగ్స్ డౌన్లోడ్
  3. ओहहहह भैया आपका लंड तो मेरी चूत में और अंदर तक घुस रहा है । अभी कितना बाहर है कंचन अपने भाई के लंड के ज़ोर के झटको से सिसकते हुए बोली। जी पिता जी नीलम ने सिर्फ इतना कहा और धीरे धीरे चलते हुए बेड पर जा लेटी । महेश भी बेड पर चढकर अपनी बहु के साथ जा लेटा। उसका लंड बुहत ज़ोर के झटके खा रहा था।
  4. मुंबई का वेश्या बाजार...लंड के धक्कों से केला जोर जोर से हिलने लगता साथ में चूत में भी कम्पन होने लगते इस तरह नीलम की चूत और गांड दोनों छेदों में जबरदस्त हलचल मचने लगी. महेश पूरी ताकत और स्पीड से दांत भींच कर लंड पेलता रहा. माँ मैं भी आने वाला हूँ। ओहहहह माँ आपने आज मुझे जन्नत का मज़ा दिया है नरेश भी अपनी माँ की बात सुनकर बुहत ज़ोर से सिसकते हुए बोला । नरेश अपनी माँ की चूत में बुहत तेज़ी के साथ अपना लंड अंदर बाहर कर रहा था और साथ में अपनी ऊँगली को भी तेज़ी के साथ अपनी माँ की गांड में अंदर बाहर कर रहा था।
  5. शीला दीदी तुम्हें ज़रा भी शर्म नहीं आई। बस में यह सब करते हुये कंचन ने शीला की पूरी बात सुनने के बाद हैंरान होते हुए कहा । शांता उसकी पीठ सहलाते हुए बोली: आज भी नहीं बताएगी क्या बेटी ? देख रही हूं पिछले दो साल से तुझे कोई समस्या अंदर ही अंदर खाए जा रही है लेकिन तू अपना मुंह तक नहीं खोलती।

அரவாணி செக்ஸ் வீடியோஸ்

आह्ह्ह्ह पिता जी नीलम अपने ससुर के लंड को अपने एक हाथ से पकडकर अपनी चूत के छेद पर घीसने लगी ऐसा करते हुए उसके मुँह से बुहत ज़ोर की सिसकियाँ निकल रही थी । नीलम कुछ देर तक ऐसा करने के बाद अपने ससुर के लंड को अपनी चूत के छेद पर टिका दिया और खुद अपने वजन के साथ उस पर बैठने लगी।

बेटी सच तो कह रहा हूँ। इस बेचारे का तुम्हारी चुचियों को देखते ही यह हाल है तो जब यह तुम्हारी नीचे वाली जन्नत को देखेगा तब तो जाने बेचारे का क्या हाल होगा अनिल ने अपनी बेटी की चूचि को पूरी तरह अपनी मुठी में भरकर दबाते हुए कहा । बेटे यह तो सब भाग्य का लिखा है तुम और मैं इसे नहीं बदल सकते हैं । मेरे नसीब में यह सुख शायद लिखा ही नहीं था रेखा ने अपने बेटे को अपने पास खडा देखकर उसके गले लगते हुए कहा ।

मुंबई का वेश्या बाजार,बताओ न बेटी तुम्हें क्या चुभ रहा है अनिल ने कंचन की चुचियों पर अपने दबाव कम करते हुए अपने लंड को ज़ोर से उसकी चूत पर दबाते हुए कहा।

आह्ह्ह्ह बेटी कितना नरम हाथ है तुम्हारा तुम मेरी गोद में लेटकर इसे सहलाओ ना महेश ने अपने हाथ को अपनी बेटी के हाथ से हटाकर उसे कमर से पकडकर अपनी गोद पर लिटा दिया।

आह्ह्ह्ह ऐसे ही ज़ोर से अंदर डालो कंचन ने कोमल को बालों से पकडकर अपनी चूत पर दबाते हुए कहा । कोमल भी अपनी जीभ को कडा करते हुए अपनी बड़ी बहन की चूत के छेद में घुसाकर अंदर बाहर करने लगी,as seis mulheres de adão (1982)

विजय ने अपनी बहन की बात का कोई जवाब दिए बगैर अपनी बहन की चूत में अपना आधा लंड ही बुहत ज़ोर से अंदर बाहर करने लगा। शीला बेड के पास पुहंचते हुए जानबूझकर अपनी एक टाँग को उठाकर बेड पर रख दिया और अपनी नाइटी को अपनी टाँग से हटाते हुए उसको टॉवल से साफ़ करने लगी।

ओहहहहह आहह भैया शीला अपने भाई के लंड को अपनी चूत में रगड देता हुआ पाकर मज़े के मारे ज़ोर से सिसकते हुए अपने चूतडों को उछाल उछाल कर अपने भाई के लंड को अपनी चूत में लेने लगी ।

नरेश ने कुछ देर लंड को ऐसे ही अन्दर डाल कर रखा और शांति से पिंकी के ऊपर लेट कर पिंकी के रसीले पतले होंठ चूमता रहा और अपने हाथों से पिंकी के संतरों को मसलता रहा।,मुंबई का वेश्या बाजार वाह भाई बेशरमी तो देखो अपनी माँ के साथ मज़े करने के बाद ऐसा नंगा होकर खडा है जैसे कोई अवार्ड जीत लिया हो मनीषा ने विजय के लंड को घूरते हुए उसे टोककर कहा।

News